Friday, October 29, 2010

.................

आज हूं तैयार मैं मरने के लिये
आखरी जाम
बिछडता साथ
टूटते ख्वाब
अंधेरी ये रात
आज हूं तैयार मैं...

आज हूं तैयार मैं मरने के लिये
एक धडकन
एक चहरा
एक चाहत
ये सवेरा
आज हूं तैयार मैं ...