Tuesday, February 28, 2012

....................................


कहते हैं दोस्त है मेरा..हमसाया है
कहीं वो दुश्मन तो नहीं?

बहला के यूं दिल को
ठगता वो दिमाग को

धुंधला के पुरानी यादों को
दिखाता नये ख्वाब वो

अंधेरे मे जलते दिये सा
अंधेरे मे बुझते दिये सा

कमबख्त
कभी लगता रब सा
कभी लगता सब सा

खेले हर बार एक नया खेला
घुमा के ज़िंदगी को चक्करों मे
हंसता यूं मुझपे
हंसता मेरा नसीबां....

Thursday, February 09, 2012

जूनूनी

अजी कमाल है ज़िन्दगी
कुछ बावरी सी ज़िन्दगी
कुछ मलंग सी ज़िन्दगी

ढलते सूरज के साथ
करे सुबह क इन्तज़ार
ख्वाब बुनती ज़िन्दगी

गिरते आसमां के पार
ढूंढे एक नया आकाश
नादान सी ज़िन्दगी

आज तक जो चली अकेली
अब चाहे एक हमसफ़र क प्यार
अधूरी सी ज़िन्दगी

थक कर, रुक कर, गिर कर, आज इस हार के बाद
कल फिर जीने को बेकरार
ये जूनूनी ज़िन्दगी